Home » Sand Smuggler Attacked on  SDO : रेत चोरों/तस्करों के भरोसे चल रही  भंडारा जिले में राजनीति

Sand Smuggler Attacked on  SDO : रेत चोरों/तस्करों के भरोसे चल रही  भंडारा जिले में राजनीति

by vmnews24
677 views
Sand-Smuggler-Attacked-on-SDO

स्थानीय नेता चोरो के साथ, पार्टी  पदाधिकारी हि हैं चोर/तस्कर

भंडारा  :

Sand Smuggler Attacked on  SDO करोड़ों रुपये के कारोबार वाले रेत के कारोबार में कई माफिया घुसपैठ कर चुके हैं और और तस्कारो कि हिम्मत इतनी बढ गई  हैं कि एसडीओ रविंद्र राठोड और अन्य अधिकारियों पर हमला कर दिया. बुधवार सुबह पवनी तालुका के बेटाला में एसडीओ अधिकारी की एक टीम पर हमला किए जाने के बाद रेत तस्करी Sand Smuggler  का मामला फिर से सामने आया है। अब सवाल यह है कि इस खुली रेत तस्करी के लिए किन-किन नेताओ समर्थन है. मगर यह अंतिम सत्य है कि  रेत चोरों/तस्करों Sand Smuggler के भरोसे चल रही  भंडारा जिले कि  राजनीति.

Sand Smuggler Attacked on  SDO वैनगंगा नदी की रेत की हर जगह काफी मांग

जिले से होकर बहने वाली वैनगंगा नदी की रेत की हर जगह काफी मांग है। यही कारण है कि रेत का अवैध खनन कई वर्षों से किया जा रहा है। पिछले दो साल से रेत के टीलों की नीलामी नहीं हुई है। इसलिए ये घाट तस्करों के कब्जे में हैं। रेत को दिन-रात नागपुर और मध्य प्रदेश पहुंचाया जाता है। इस धंधे में कुछ पार्टियों के कार्यकर्ता रेत की तस्करी में लिप्त हैं। सैकड़ों ब्रास की रेत की अवैध रूप से खुदाई की जाती है.

रेत तस्करों पर नकेल कसने की मुख्य जिम्मेदारी राजस्व विभाग की होती है। इसके लिए जिले के राजस्व विभाग ने एक टीम भी बनाई है। हालाँकि, चूंकि इन तस्करों को संरक्षण  मिल रहा है, इसलिए अधिकारी कारवाही करणे का दिखावा करते है, केवल कार्रवाई लेनदेन के लिये कि जाती है। इसलिए तस्करों का मनोबल बढ़ा है। जिससे हमले होते हैं। पवनी तालुका के बेटाळा में बुधवार सुबह 15 से 20 तस्करों ने एसडीओ अधिकारी रवींद्र राठौर पर हमला कर दिया. सौभाग्य से, वह हमले में बच गये।

प्रतिशोध में हमला

पता चला है कि पिछले एक महीने में उपविभागीय  अधिकारि द्वारा की गई कार्रवाई के प्रतिशोध में उन पर हमला किया गया था। बालू तस्करों ने शनिवार को लाखनी तालुका के झरप में तहसीलदार, मंडल अधिकारियों और तलाटी को लाठियों से खदेड़ दिया था। सौभाग्य से, किसी के घायल होने की सूचना नहीं मिली। बालू तस्करों का बड़ा नेटवर्क रेत तस्करों ने स्थानीय युवाओं और राजस्व विभाग के कर्मचारियों का एक बड़ा नेटवर्क तैयार कर लिया है। किस अधिकारी का वाहन किस तरफ जा रहा है, इसकी जानकारी बालू तस्करों को तुरंत मिल जाती है। तो अगर कोई अधिकारी ईमानदारी से कार्रवाई के लिए जाता है, तो रेत तस्कर गुजर चुके होते है।

जिले के रेतीघाट की ओर जाने वाली सड़कों पर दिन-रात दोपहिया वाहन बैठे हैं। यदि रेत का ट्रक पकड़ा जाता है, तो तस्कर  कुछ ही समय में वहाँ इकट्ठी हो जाती है। उनके हाथों में लाठियां होती  हैं। टीम पर दबाव बनाते है। और रेत का ट्रक भगा ले जाते है.  20 से 25 तस्कर  के इस ग्रुप के सामने कुछ भी काम नहीं करता.

You may also like

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More